प्रांत

प्रान्त एक प्रादेशिक इकाई है, जो कि लगभग हमेशा ही एक देश या राज्य के अन्तर्गत एक प्रशासकीय खण्ड होता है।

अंग्रेजी शब्द "प्रान्त" लगभग 1330 से साक्ष्यांकित है और इसकी व्युत्पत्ति तेरहवीं शताब्दी के प्राचीन फ़रासी शब्द "province" से हुई जो कि स्वयं लातिन शब्द "प्रोविन्सिया" से लिया गया है, जिसका अभिप्राय, विशेष रूप से, किसी विदेशी प्रदेश में एक मजिस्ट्रेट के अधिकार क्षेत्र से है। एक सम्भावित लातिन व्युत्पत्ति "प्रो (Pro-)" ("की ओर से") और "विन्सियर (vincere)" ("विजय के लिए" अथवा "नियन्त्रण लेना") हो सकती है। इस प्रकार एक "प्रान्त" एक क्षेत्र या ऐसा प्रकार्य होता था जिसे अपनी सरकार की ओर से एक रोमन मजिस्ट्रेट अपने नियन्त्रण में ले लेता था। यह हालाँकि, रोमन क़ानून के अन्तर्गत अधिकार क्षेत्र के लिए प्रयुक्त किये जाने वाले इस लातिन शब्द के प्रारम्भिक प्रयोग से मेल नहीं खाता।

भूविज्ञान में शब्द "प्रान्त" का प्रयोग ऐसे भौतिक-भौगोलीय क्षेत्र के लिए किया जाता है जो वर्तमान जल-स्तरीय अथवा ऐतिहासिक जल-स्तरीय (जो अब तलछट स्तर से ऊपर हो) रूप में अपने आस-पास के क्षेत्रों अथवा "प्रान्तों" से स्पष्ट रूप से अलग हो। यह शब्द आम तौर से किसी क्रेटन के खण्डों या क्षेत्रों, जो किसी काल विशेष की स्ट्रेटीग्राफी से पहचानी जाये, से सम्बन्ध रखता है, उदाहरण के लिए, जिसे किसी प्रमुख भूगर्भीय काल खण्ड से पहचाना जा सके।

फ्रांस में अभी भी "एन प्रोविंस " उक्ति का अर्थ अब तक "पेरिस क्षेत्र के बाहर" से ही निकाला जाता है। समतुल्य उक्तियाँ इस्तेमाल की जाती हैं, पेरू में ("ऍन प्रौविन्सियस " "लीमा शहर से बाहर"), मेक्सिको में ("ला प्रोविन्सिया, " "मेक्सिको शहर से बाहर की भूमि"), रोमानिया में ("इन प्रोविन्सी " "बुकारेस्ट क्षेत्र से बाहर"), पोलैंड में ("prowincjonalny " "प्रांतीय") तथा बुल्गारिया में ("в провинцията, " "v provintsiyata " "провинциален, " "provintsialen, " "प्रान्तों में")। फ्रांसीसी क्रांति से पहले फ्रांस कई शासन क्षेत्रों में बँटा हुआ था (उदाहरण के लिए केप्शीयन की शाही संपदा के चारों ओर बना आइल-डि-फ्रांस), इनमें से अनेक को "प्रान्त" माना जाता था, हालाँकि इस शब्द का प्रयोग बोल-चाल की भाषा में ऐसे क्षेत्रों के लिए भी किया जाता था जो मात्र किसी जमींदारी (châtellenie) जितने ही होते थे। हालाँकि साधारणत: "प्रान्त" द्वारा सांकेतिक क्षेत्र ग्रैन्ड्स गवर्नमेंट्स की जातीं थीं जो आम तौर पर मध्यकालीन सामंतों की रियासतें अथवा भूमि संकलन होते थे। आजकल "प्रान्त " शब्द के स्थान पर कई बार एन रीजन (en région), शब्द का प्रयोग होने लगा है, "रीजन " (région) शब्द का प्रयोग अब शासन के द्वितीय स्तर पर आधिकारिक रूप से किया जाने लगा है। इटली में "इन प्रोविन्सिया " (in provincia) का अर्थ साधारणत: (रोम, मिलान, नेपल्स आदि जैसे) "बड़े राजधानी क्षेत्रों से बाहर के क्षेत्र" से होता है। ऐतिहासिक यूरोपीय प्रान्त - जो कई छोटे क्षेत्रों से मिल कर बनते थे, उन्हें फ्रांसीसियों द्वारा पेस (pays) और स्विस लोगों द्वारा कैनटांस (cantons) कहा जाता था और जिनमें से हरेक की स्थानीय सांस्कृतिक पहचान और केंद्रीय बाज़ार का क़स्बा होता था - इन्हें पूर्व औद्योगिक, पूर्व आधुनिक यूरोप में फ़र्नांड ब्रौडेल द्वारा उचित आकार की राजनीतिक इकाई के रूप में व्यक्त किया जाता था। वह पूछते थे "क्या यह प्रान्त इसके वासियों की सच्ची जन्मभूमि थी?"[1] यहाँ तक कि केंद्रीय रूप से संगठित फ्रांस, जो एक प्रारंभिक राष्ट्र राज्य था, दबाव में स्वायत्त प्रांतीय टुकड़ों में टूट सकता था, जैसा कि अनवरत फ्रांसीसी धर्म-युद्ध (1562-98) में हुआ। 19वीं और 20वीं सदी के इतिहासकारों की दृष्टि में, यूरोप में केन्द्रीय शासन आधुनिकता और राजनीतिक परिपक्वता के चिन्ह थे। 20वीं शताब्दी के अंत में, जब यूरोपीय संघ ने राष्ट्रों-राज्यों को साथ ले लिया तो, अभिकेन्द्रीय शक्तियों के कारण देशों के लिए अधिक स्थानीय और समस्त यूरोपीय संघ के विभिन्न घटकों को समाहित करने वाले प्रांतीय रूप से शासित इकाई की अधिक लचीली प्रणालियों को अपनाना आवश्यक हो गया। फ्रांसिस्को फ्रांको के पश्चात् स्पेन "स्वायत्तता का राज्य" बन गया, जो औपचारिक रूप से तो एक इकाई के रूप में है परन्तु वास्तव में वह स्वायत्त संप्रदायी राज्यों के संघ के रूप में कार्य करता है, जिसमें से प्रत्येक, अपने भिन्न अधिकारों का प्रयोग करते हैं। (देखें: स्पेन की राजनीति) जहाँ सर्बिया, जो कि भूतपूर्व युगोस्लाविया का हिस्सा था, ने कोसोवो प्रान्त में अलगाववादियों से युद्ध किया, वहीं यूनाइटेड किंगडम ने "शक्ति हस्तांतरण" के राजनीतिक सिद्धांत के अंतर्गत स्कॉट्लैंड, वेल्स और उत्तरी आयरलैंड में स्थानीय संसदों की व्यवस्था करवाई। ब्रिटेन के कॉर्नवाल, फ्रांस के ब्रिटनी, लेंग्युडॉक एवं कोर्सिका, स्पेन के कटालोनिया एवं बास्क देश, इटली के लोम्बार्डी, बेल्जियम के फ्लेंडर्स तथा पूर्वी यूरोप के अब्खाज़िया, चेचन्या एवं कुर्दिस्तान में सशक्त स्थानीय राष्ट्रवाद उभर आया अथवा विकसित हो गया।

कई राज्य-संघों एवं महा-संघों में प्रान्त अथवा राज्य स्पष्ट रूप से राष्ट्रीय या केन्द्रीय सरकारों के अधीन नहीं होते हैं। दरअसल अपने कुछ विशिष्ट संवैधानिक कार्यों में प्रान्तों को ही प्रमुख माना गया है। संविधान में केंद्रीय एवं प्रांतीय सरकारों के कार्य अथवा अधिकार क्षेत्र स्पष्ट रूप से पहचाने जाते हैं। वे कार्य जो स्पष्ट रूप से नहीं पहचाने जाते हैं, "अवशिष्ट शक्तियाँ अथवा अधिकार" कहे जाते हैं। एक विकेन्द्रीकृत संघीय प्रणाली (उदाहरण के लिए संयुक्त राज्य अमेरिका एवं ऑस्ट्रेलिया) में इन अवशिष्ट शक्तियों पर प्रान्त अथवा राज्य का अधिकार होता है, पर केंद्रीकृत संघीय प्रणाली में (उदाहरण के लिए कनाडा) वे केंद्र शासन में रहती हैं। इनमे से कुछ विशेष अधिकार वास्तव में महत्वपूर्ण हो सकते हैं। उदाहरण के लिए, कनाडा के प्रान्त कुछ महत्वपूर्ण मामलों, जैसे संपत्ति, नागरिक अधिकार, शिक्षा, सामाजिक जनकल्याण एवं चिकित्सा सेवाओं में प्रभुसत्ता रखते हैं। संघों के विकास ने केंद्रीय प्रभुत्व एवं "राज्यों" के अधिकारों के बीच एक अपरिहार्य रस्सा-कशी प्रारंभ कर दी है। संघीय संविधानों में उत्तरदायित्वों का ऐतिहासिक विभाजन अनिवार्य रूप से अनेकों अतिव्यापनों पर निर्भर करता है। उदाहरण के लिए, जब केंद्रीय सरकारें, जो कि विदेशी मामलों के लिए जिम्मेदार होती हैं, ऐसे क्षेत्रों में अंतर्राष्ट्रीय अनुबंध करती हैं जो राज्यों अथवा प्रान्तों के अधिकार क्षेत्र में आते हैं, जैसे कि पर्यावरण या चिकित्सा मानक, तब राष्ट्रीय स्तर पर किये गए ऐसे अनुबंध अधिकार-क्षेत्र की अतिव्याप्ति एवं विरोधाभासी कानूनों का कारण बनते हैं। यह अतिव्याप्ति आंतरिक विवादों की सम्भावना बनाती है तथा ऐसे संवैधानिक संशोधनों तथा न्यायिक निर्णयों का कारण बनती है जिनसे शक्ति-संतुलन में परिवर्तन आता है। हालाँकि विदेश नीति से सम्बन्धित मामले साधारणत: प्रान्त अथवा राज्य की क्षमता से बाहर होते हैं, फिर भी कुछ राज्य संवैधानिक विशिष्टाधिकार एवं आधारभूत हितों के मामलों में अंतर्राष्ट्रीय सम्बन्ध स्थापित करने की क़ानूनी रूप से आज्ञा देते हैं। उप-राष्ट्रीय सत्ताओं की रूचि परम-कूटनीति में बढ़ती जा रही है, फिर चाहे वह किसी क़ानूनी रूप-रेखा में की जाने वाली हो अथवा केंद्रीय शासन द्वारा अनौपचारिक रूप से स्वीकार किये जाने से। फ्रांस एवं चीन जैसे एकल राज्यों में प्रान्त राष्ट्रीय एवं केंद्रीय सरकारों के अधीन हैं। सिद्धांत रूप में, केंद्र सरकार को अपने अधीन प्रान्तों को बनाने अथवा समाप्त करने का अधिकार है।

सभी दूसरे स्तर की राजनीतिक इकाइयों को "प्रान्त" नहीं कहा जाता है। अरब देशों में दूसरे स्तर की सरकार को मुहाफ़ज़ाह कहा जाता है जिसका अभिप्राय राज्यपाल द्वारा शासित क्षेत्र अथवा "गवर्नरेट" होता है। पोलैंड में, "प्रांत" के समकक्ष रूप को "województwo ", जिसे अंग्रेजी में "वाइवोदेशिप (voivodeship)" उच्चरित करते हैं। पेरू में प्रान्त सरकार की क्षेत्रीय इकाइयाँ होती हैं, देश पच्चीस क्षेत्रों में बँटा है जो कि 194 प्रान्तों में प्रविभाजित हैं। चिली में भी इससे मिलता जुलता स्वरुप अपनाया गया है, यह 15 क्षेत्रों में विभाजित और 53 प्रान्तों में प्रविभाजित है जिसमें से हर एक राष्ट्रपति द्वारा नियुक्त राज्यपाल द्वारा शासित है। ऐतिहासिक दृष्टि से, न्यूजीलैंड भी प्रान्तों में विभाजित था जिनमे से हर एक का अपना अधीक्षक एवं प्रांतीय परिषद थीं और उनके द्वारा महत्वपूर्ण जिम्मेदारियाँ निर्वाहित की जाती थीं। हालाँकि, जब यह एक उपनिवेश के रूप में था तब यह कभी राज्य-संघ के रूप में विकसित नहीं हो पाया; इसके विपरीत, 1876 में प्रान्तों की समाप्ति कर दी गयी। पुरानी प्रांतीय सीमाओं का प्रयोग अभी भी कुछ सार्वजनिक अवकाशों का निर्धारण करने में किया जाता है। इन वर्षों में, जब भी केंद्रीय सरकार ने उप-राष्ट्रीय स्तर पर विशेष उद्देश्य के लिए एजेंसियों को बनाया है, इसके लिए अक्सर पुरानी प्रांतीय सीमाओं का ही प्रयोग किया जाता है। वर्तमान उदाहरण में वे 16 क्षेत्र शामिल हैं जिनमें न्यूज़ीलैंड विभाजित है और साथ ही 21 जिला स्वास्थ्य बोर्ड भी हैं। कई बार प्रान्त शब्द का प्रयोग सम्मिलित रूप से उन ग्रामीण और आँचलिक भागों के लिए किया जाता है जो "मुख्य केन्द्रों" - ऑकलैंड, वेलिंगटन, क्राइस्टचर्च, हैमिल्टन तथा डुनेडिन - से बाहर हैं।

कई देशों में, एक प्रांत अपेक्षाकृत छोटे, असंवैधानिक स्तर के उप राष्ट्रीय स्तर की सरकार वाले स्थान होते हैं, जिनका आकार यूनाइटेड किंगडम की काउंटी से लेकर संयुक्त राज्य अमरीका के राज्य – [2 ] तक हो सकता है, इनमें एक स्वायत्त सरकार तथा राज्य-संघ अथवा महा-संघ के मूल तत्व होते हैं, अक्सर इनका आकार बड़ा होता है। चीन में, एक प्रांत एकात्मक राज्य के भीतर एक उप राष्ट्रीय क्षेत्र है, इसका मतलब है कि एक प्रांत केन्द्र सरकार द्वारा बनाया या समाप्त किया जा सकता है। फिलीपींस, बेल्जियम, स्पेन एवं इटली में "प्रांत" सरकार की एक स्पष्ट इकाई है और कनाडा, कांगो और अर्जेंटीना में एक बड़ा स्वायत्त क्षेत्रीय घटक है। इटली और चिली में, प्रांत किसी क्षेत्र का एक प्रशासनिक उप-मंडल है, जो राज्य का प्रथम स्तरीय प्रशासनिक उप-संभाग होता है। इतालवी प्रांत में कम्यूनी (कम्युन्स) नामक कई प्रशासनिक उप-मंडल शामिल होते हैं। चिली में उनको कॉम्यूनस (comunas) कहा जाता है। पांच कनाडियन प्रांत – ओंटारियो, क्युबेक, न्यू ब्राउनश्विक, नोवा स्कोटिया और प्रिंस एडवर्ड आइलैंड – के प्रशासनिक उप-मंडलों के रूप में "काउंटी" हैं। कनाडियन प्रान्त ब्रिटिश कोलंबिया के पास "क्षेत्रीय जिले" हैं जो पूर्वोक्त के समकक्ष के रूप में कार्य करते हैं। आयरलैंड 4 ऐतिहासिक प्रान्तों (आयरलैंड के प्रान्त देखें) में विभाजित है जिनमें से प्रत्येक काउंटियों में प्रतिविभाजित हैं। ये प्रांत हैं कॉनाक्ट (पश्चिम में), लिएंस्टर (पूर्व में), मुंस्टर (दक्षिण में) और शायद सबसे प्रसिद्ध (मुसीबतों के कारण), उल्स्टर (उत्तर में). आजकल इन प्रांतों में प्रशासनिक कार्य कम हैं, अथवा नहीं है, हालाँकि इनका महत्व खेल के कारण है। ब्रिटिश साम्राज्य के कुछ विदेशी भागों को "प्रान्त" (रोमन अर्थ के साथ) का औपनिवेशिक नाम मिला था, उदाहरण के लिए कनाडा का प्रान्त या दक्षिणी ऑस्ट्रेलिया का प्रान्त (इसे ऑस्ट्रेलिया में अन्यत्र दंडात्मक "कालोनी" से अलग समझा जाये)। इसी तरह, मोजाम्बिक पुर्तगाली उपनिवेश के रूप में एक "प्रांत" था।

कभी-कभी शब्द "प्रान्त" का प्रयोग रूस के ऐतिहासिक गवर्नरेट (राज्यपाल द्वारा शासित क्षेत्र) (गुबेर्नियास) के लिए भी किया जाता है। इस मामले में भी इस शब्द को प्रान्तों (провинции) को संदर्भित करने के लिए किया गया है, जो गुबेरनियास के उपखंडों के रूप में लाये गए थे और 1719 से 1775 तक अस्तित्व में थे। आधुनिक उपयोग में शब्द "प्रान्त" का प्रयोग रूस के ओब्लास्ट्स (oblasts) तथा क्रेस (krais) के लिए किया जाता है।

दुनिया का सर्वाधिक आबादी वाला प्रांत चीन का हेनान है जिसकी आबादी 93000911 है। दुनिया के सबसे बड़े क्षेत्रफल वाला प्रांत क्यूबेक, कनाडा है (1500000 किमी²).